मुख्यमंत्री ने 132 करोड़ रूपए की लागत से बेणेश्वर धाम में बनने वाले हाईलेवल पुल के शिलान्यास स्थल का किया निरीक्षण

मुख्यमंत्री ने 132 करोड़ रूपए की लागत से बेणेश्वर धाम में बनने वाले  हाईलेवल पुल के शिलान्यास स्थल का किया निरीक्षण

मुख्यमंत्री ने 132 करोड़ रूपए की लागत से बेणेश्वर धाम में बनने वाले

हाईलेवल पुल के शिलान्यास स्थल का किया निरीक्षण

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि प्रदेश सरकार आम जन के उत्थान एवं प्रदेश के समग्र विकास के लिए प्रतिबद्ध है। हर वर्ग और क्षेत्र के उत्थान के लिए कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

गहलोत बुधवार को प्रसिद्ध लोक तीर्थ बेणेश्वर धाम पहुंचे। उन्होंने यहां पर सभा को संबोधित करते हुए कहा कि वागड़ क्षेत्र का विकास करना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। जनजाति क्षेत्रों में सरकार की महत्वपूर्ण जनकल्याणकारी योजनाओं के जरिए हर वर्ग को लाभांवित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बांसवाड़ा को रेललाइन से जोड़ने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने बेणेश्वर धाम पर 132 करोड़ रूपए की लागत से बनने वाले हाईलेवल पुल के शिलान्यास स्थल का निरीक्षण भी किया। उन्होंने सभास्थल की तैयारियों का जायजा लिया। स्थल के नक्शों का अवलोकन करते हुए सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

गहलोत ने बेणेश्वर धाम मंदिर में दर्शन किए। उन्होंने दीप प्रज्वलित करते हुए प्रदेश में खुशहाली के लिए प्रार्थना की और बेणेश्वर पीठाधीश्वर गोस्वामी महंत अच्युतानंद महाराज से मुलाकात की।

इस अवसर पर पूर्व शिक्षा मंत्री गोविंदसिंह डोटासरा ने कहा कि राज्य सरकार जनजाति क्षेत्र के उत्थान में लगातार महत्वपूर्ण निर्णय ले रही है। उन्होंने अधिकारियों को जनकल्याणकारी योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार कर आमजन को लाभ पहुंचाने के निर्देश दिए।

इस दौरान जल संसाधन मंत्री महेन्द्रजीत सिंह मालवीय, ऊर्जा राज्य मंत्री  भंवर सिंह भाटी, जनजाति क्षेत्रीय विकास राज्यमंत्री अर्जुन सिंह बामनिया ने भी सभा को संबोधित किया। इस मौके पर संभागीय आयुक्त उदयपुर राजेन्द्र कुमार भट्ट, महानिरीक्षक पुलिस उदयपुर रेंज हिंगलाजदान, जिला कलक्टर बांसवाड़ा प्रकाशचंद्र शर्मा, डूंगरपुर जिला कलक्टर शुभम चौधरी, जिला पुलिस अधीक्षक बांसवाड़ा राजेश मीणा सहित बांसवाडा एवं डूगरपुर के अधिकारीगण मौजूद थे।