सैमसंग गैलेक्सी टैब S9 सीरिज जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2024 का तीसरा दिन रहा अवार्ड और बुक लॉन्च के नाम

‘जस्टिस: द वोइस ऑफ़ द वोइसलेस’ सत्र की शुरुआत लेखिका और कानून की एसोसिएट प्रोफेसर अपर्णा चंद्रा ने पिछले 75 वर्षों में सुप्रीम कोर्ट की भूमिका और संरचना में हुए भारी बदलावों के बारे में बोलते हुए की।

Feb 4, 2024 - 01:18
 0
सैमसंग गैलेक्सी टैब S9 सीरिज जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2024 का तीसरा दिन रहा अवार्ड और बुक लॉन्च के नाम
सैमसंग गैलेक्सी टैब S9 सीरिज जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2024 का तीसरा दिन रहा अवार्ड और बुक लॉन्च के नाम

सैमसंग गैलेक्सी टैब S9 सीरीज जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के तीसरे दिन की शुरुआत स्विट्जरलैंड के एम्बेसडर द्वारा प्रस्तुत प्रसिद्ध ट्रायो वन वर्ल्ड के प्रात: संगीत के साथ हुई। वे एक क्लासिकल क्रॉसओवर प्रोजेक्ट हैं, जो पश्चिमी शास्त्रीय पियानो और भारतीय शास्त्रीय सितार और तबले के साथ जुगलबंदी करते हैं.

अरुंधति सुब्रमण्यम को प्रतिष्ठित कन्हैयालाल सेठिया पुरस्कार 2024 से सम्मानित किया गया। प्रसिद्ध कवि, शिक्षक, समाज सुधारक, पर्यावरणविद् और स्वतंत्रता सेनानी महाकवि कन्हैयालाल सेठिया को महाकवि कन्हैयालाल सेठिया फाउंडेशन के सहयोग से फेस्टिवल द्वारा प्रस्तुत वार्षिक पुरस्कार के माध्यम से याद किया जाता है। जूरी में नमिता गोखले, संजय के. रॉय, सुकृता पॉल कुमार, रंजीत होसकोटे और सिद्धार्थ सेठिया शामिल थे।

दिन का पहले सत्र, ‘ओपेन्हाईमर: द अमेरिकन प्रोमिथेउस’ में केय बर्ड ने अपनी किताब के माध्यम से एटमिक त्रासदी और ओपेन्हाईमर के व्यक्तित्व पर चर्चा की| केय बर्ड की किताब के आधार पर ही क्रिस्टोफर नोलन ने सुपरहिट फिल्म ‘ओपेन्हाईमर’ बनाई है| सत्र संचालक जोनाथन फ्रीडलैंड ने जब केय से पूछा कि क्या नोलन उनकी किताब से न्याय कर पाए, तो उन्होंने कहा, हां, फिल्म सच में शानदार बनी है| और ये पूरी तरह मेरी किताब के साथ न्याय करती है| केय ने कहा कि ओपेन्हाईमर वर्तमान समय में और ज्यादा प्रासंगिक और महत्वपूर्ण हो जाते हैं, जब हम लगातार युद्ध और परमाणु बम की दहशत के साये में जी रहे हैं| रोबर्ट ओपेन्हाईमर की कहानी अमेरिका की राजनीति को समझने के लिए ज़रूरी है|

सत्र ‘द पेल ब्लू डॉट: चेरिशिंग अवर प्लैनेट’ में Myntra और क्योरफिट के संस्थापक मुकेश बंसल, जी20 शेरपा अमिताभ कांत और एक्सिस बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री नीलकंठ मिश्रा से एनडीटीवी समूह के कार्यकारी संपादक विष्णु सोम ने संवाद किया (सैमसंग गैलेक्सी टैब एस9 सीरीज द्वारा प्रस्तुत)| अंतरिक्ष अन्वेषण के बढ़ते उद्योग और इसमें भारत के स्थान के बारे में बोलते हुए, अमिताभ कांत ने कहा, "हमें अंतरिक्ष पर्यटन के लिए अंतरिक्ष व्यवसाय में नहीं होना चाहिए, बल्कि अपने नागरिकों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए होना चाहिए।" पैनल ने उस भूमिका पर प्रकाश डाला जो निजी क्षेत्र और, सबसे महत्वपूर्ण बात, भारत के युवाओं को अंतरिक्ष अन्वेषण के अनुसंधान में निभानी चाहिए। मुकेश बंसल, जिन्होंने भारत की पहली निजी अंतरिक्ष कंपनी, स्काईरूट को भी फंडेड किया है, ने कहा, "बहुत से युवा उद्यमी सचमुच समझ रहे हैं कि आकाश की सीमा है।"

‘द पावर ऑफ मिथ’ में, आनंद नीलकंठन ने सत्यार्थ नायक (द वीक द्वारा प्रस्तुत) के साथ हिंदू ग्रंथों पर चर्चा की| ब्लॉकबस्टर बाहुबली त्रयी के लेखक आनंद नीलकंठन ने 'ईश्वर' के बारे में अपने विचार को समझाया और बताया कि कैसे यह औपनिवेशिक युग के दौरान अंग्रेजों द्वारा विकसित 'एक ईश्वर, एक हिंदू' की अवधारणा से काफी अलग है। नीलकंठन ने कहा, हमारी सभी परंपराएं, यदि आप देखें, सभी बहसें हैं, गीता एक बहस है। गीता कृष्ण द्वारा थोपी गई बात नहीं है कि मैं जो चाहता हूँ तुम उसका पालन करो अन्यथा तुम अनन्त नरक में जलोगे। वह ऐसा कभी नहीं कहते।'' सत्र के अंत में, नीलकंठन ने अपनी नई रिलीज़, असुर: टेल ऑफ़ द वेंक्विश्ड का उल्लेख किया, और यह कैसे विभिन्न पौराणिक ग्रंथों में रावण की कथाओं को उजागर करता है।

सत्र ‘बैन्ड, बर्न्ड एंड सेंसर्ड’ में उन किताबों पर चर्चा हुई, जिन्हें प्रशासन और समाज ने खतरनाक मानकर प्रतिबंधित किया, जला दिया और सेंसर किया| सत्र की शुरुआत में वरिष्ठ लेखिका मृदुला गर्ग ने अपने उपन्यास ‘चित्तकोबरा’ पर बात की| ‘चित्तकोबरा’ का प्रकाशन 1979 में हुआ था, और इस उपन्यास की वजह से लेखिका पर अश्लीलता का आरोप लगाकर, उन पर पुलिस केस किया गया| इस मृदुला ने कहा, अपने पति को कमोडिटी के रूप में इस्तेमाल करना उस नायिका का गुनाह था| उन्होंने आगे कहा कि पुलिस के मेरे घर आने से मैं और ज़्यादा निडर बनी| नवदीप सूरी ने अपने दादा नानक सिंह की कविता ‘ख़ूनी बैसाख’ के सन्दर्भ में कहा कि वो लम्बी कविता जलियांवाला हत्याकांड की त्रासदी पर लिखी गई थी, और तत्कालीन सरकार ने 1919 में उसकी सारी प्रतियां जला दी थीं... मैं उनकी मौलिक कृति 2019 में ब्रिटिश म्यूजियम में देख पाया|

सत्र ‘पारो@40’ में लेखिका नमिता गोखले के उपन्यास ‘पारो’ और उनके लेखन पर दिलचस्प चर्चा हुई| सन 1984 में जब उन्होंने पारो लिखा था, तो इसकी बहुत आलोचना हुई थी| ये अपने समय से आगे का नॉवेल था| मैं अपने समय से बहुत आगे थी... ये एक फनी बुक है, लेकिन ये फन सेक्स को लेकर था और शायद यही बात लोगों को बुरी लगी| उन्होंने आगे कहा, पारो होने के लिए एक ख़ास किस्म के साहस की ज़रूरत होती है| इतिहासकार और पॉडकास्टर एरिक चोपड़ा ने कहा, यह इस समय की किताब है| और हाल ही में ‘एनिमल’ फिल्म देखकर मुझे एहसास हुआ कि एक पुरुष को आज़ादी महिला की कीमत पर मिलती है, लेकिन एक महिला, एक पारो कभी किसी दूसरे की कीमत पर अपनी आज़ादी हासिल नहीं करती|

‘फर्स्ट एडिशन’ में शिवानी सिब्बल के पहले बहुचर्चित उपन्यास ‘इक्वेशंस’ (Equations) के हिन्दी संस्करण ‘सियासत’ का लोकार्पण हुआ| लोकार्पण में शिवानी सिब्बल, मृदुला गर्ग, मीता कपूर और प्रभात रंजन शामिल रहे| फिर शिवानी सिब्बल और प्रभात रंजन से मीता कपूर ने इस उपन्यास पर चर्चा की| शिवानी सिब्बल के उपन्यास ‘सियासत’ में निजी महत्त्वाकांक्षाओं, पारिवारिक सीमाओं और सामाजिक बदलावों की एक दिलचस्प कहानी है। नए भारत के बदलते यथार्थ को लेखक ने इस उपन्यास में बारीकी से चित्रित किया है।

सत्र द नेम इज़ फ्लेमिंग’ में पुरस्कृत जीवनीकार निकोलस शेक्सपियर ने प्रसिद्ध इतिहासकार और लेखक मैथ्यू पार्कर के साथ अपनी किताब ‘इयान फ्लेमिंग: द कम्प्लीट मैन’ पर चर्चा की। शेक्सपियर ने इयान फ्लेमिंग के जीवन के बारे में अंतरंग विवरण साझा किए, उनके बचपन से लेकर जब उन्होंने आठ साल की उम्र में अपने पिता को खो दिया था और अंततः राष्ट्र संघ में जिनेवा, ऑस्ट्रिया में नौकरी प्राप्त की। फ्लेमिंग के बारे में बात करते हुए, शेक्सपियर ने कहा, "वह (फ्लेमिंग) विशेषाधिकार का पुत्र था लेकिन गरीबी का पोता था...।" दर्शकों को रहस्य बताते हुए, शेक्सपियर ने कहा कि फ्लेमिंग की नेवल इंटेलीजेंस तक पहुंच थी, जिसने उन्हें जेम्स बॉन्ड के लिए प्रेरित किया।

‘द प्रॉमिस’ नामक एक सत्र में (टीवी9 द्वारा प्रस्तुत) बुकर पुरस्कार विजेता डेमन गैलगुट ने अपनी किताब,  ‘द प्रॉमिस’ के बारे में बात की, जो रिश्तों में पॉवर के खेल को व्यक्त करती है| किताब के बारे में बात करते हुए, गलगुट ने कहा कि यह दक्षिण अफ्रीका में सबसे कठिन दशकों के दौरान उनके मित्र के परिवार में हुई चार अंत्येष्टि के इर्द-गिर्द रची गई थी, जिसमें परिवर्तनकारी परिवर्तन देखे गए। गैलगुट ने ‘द प्रॉमिस’ में उस वादे को उजागर किया, जो अंतिम संस्कार से अंत्येष्टि तक प्रसारित होता है और यह दक्षिण अफ्रीका के इतिहास से कैसे संबंधित है। जब उनसे पूछा गया कि एक लेखक के रूप में वह कैसे हैं, तो गैलगुट ने स्वीकार किया, "मैं सबसे गंदा, सबसे अराजक लेखक हूं, मैं पूर्ण अस्पष्टता और असंगति से शुरू करता हूं, वास्तव में यह नहीं जानता कि मैं क्या व्यक्त करना चाहता हूं, मैं इसे कैसे व्यक्त करना चाहता हूं।"

‘जस्टिस: द वोइस ऑफ़ द वोइसलेस’ सत्र की शुरुआत लेखिका और कानून की एसोसिएट प्रोफेसर अपर्णा चंद्रा ने पिछले 75 वर्षों में सुप्रीम कोर्ट की भूमिका और संरचना में हुए भारी बदलावों के बारे में बोलते हुए की। जस्टिस मुरलीधर ने टिप्पणी की, "आज हमारे पास ऐसी न्यायपालिका नहीं है, जो कार्यपालिका के हस्तक्षेप से पूरी तरह अछूती हो।" चंद्रा ने अपनी सह-लिखित पुस्तक ‘कोर्ट ऑन ट्रायल’ में विषयों पर चर्चा करके बातचीत को आगे बढ़ाया| जस्टिस मदन बी. लोकुर ने कहा, “भारत का संविधान स्वयं सर्वोच्च न्यायालय में आने के लिए पर्याप्त दिशानिर्देश प्रदान करता है; इसलिए सुप्रीम कोर्ट को बस इतना करना है कि संविधान जो कहता है उसका पालन करें।'' सत्र का समापन पैनलिस्टों द्वारा कॉलेजियम में महिला न्यायाधीशों की कमी और क्या सुप्रीम कोर्ट पितृसत्तात्मक सिंड्रोम से पीड़ित होने पर चर्चा के साथ उचित रूप से हुआ।

‘द पेलिस्टिन लेबोरेटरी’ सत्र में इज़राइल और फिलिस्तीन के बीच मौजूदा संघर्ष पर चर्चा हुई| द हिंदू की राजनयिक संपादक, सुहासिनी हैदर ने कहा, "...मृत्यु दर पहले से ही 25,000 को पार कर रही है और जिस समय हम बात कर रहे हैं उस समय यह 30,000 के करीब है... एक पत्रकार के रूप में आप बहुत कुछ देखने के आदी हैं...लेकिन... (क्या) संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने दैनिक बमबारी के कारण एक क्षेत्र को बच्चों के लिए कब्रिस्तान के रूप में बताया है..." यहूदी पत्रकार एंटनी लोवेनस्टीन ने फिलिस्तीनियों के प्रति सहानुभूति व्यक्त की और उनका मानना था कि एक लोकतांत्रिक राज्य एक समाधान था। लेखक चार्ल्स ग्लास ने गाजा में चल रहे इजरायली हमलों के कारण फिलिस्तीनियों की दुर्दशा, आवश्यक वस्तुओं की कमी पर अपनी चिंता व्यक्त की। लेखक और स्तंभकार, केय बर्ड का मानना था कि 7 अक्टूबर ने सुरक्षा के प्रति मूलभूत यहूदी संवेदनशीलता और चल रहे संघर्ष पर अमेरिका के प्रभाव को बदल दिया है।

टीमवर्क आर्ट्स और उनके लंबे समय से पार्टनर ब्रिटिश काउंसिल ने भारत-यूके 2030 रोडमैप के अनुरूप भारत और यूके के बीच कलात्मक सहयोग और नेटवर्क को मजबूत करने के लिए एक मेमोरेंडम तैयार किया| इस पार्टनरशिप का उद्देश्य ज्ञान के आदान-प्रदान को सुविधाजनक बनाना, कलाकारों और संस्कृतियों को जोड़ना और वैश्विक स्तर पर अपने नेटवर्क का विस्तार करना है।

फेस्टिवल में कल शामिल होंगे: लेखिका और पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित सुधा मूर्ति की मेजबानी; 2021 बैली गिफोर्ड 2021 पुरस्कार के विजेता, लेखक और पत्रकार पैट्रिक रैडेन कीफ; भारत के लिए संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट समन्वयक शोम्बी शार्प; 2023 इंटरनेशनल बुकर पुरस्कार विजेता लेखक जॉर्जी गोस्पोडिनोव; तीसरी बार संसद के सदस्य और बेस्टसेलर लेखक शशि थरूर और भारत में अमेरिकी राजदूत एरिक गार्सेटी