अवैध लोन ऐप की भरमार, बना रही धोखे से कर्जदार

अवैध लोन ऐप की भरमार, बना रही धोखे से कर्जदार
अवैध लोन ऐप की भरमार, बना रही धोखे से कर्जदार

अनधिकृत डिजिटल लेंडिंग प्लेटफार्म और मोबाइल एप्लिकेशन की बढ़ती संख्या चिंता का कारण बनी है। वे अत्यधिक ब्याज दर और अतिरिक्त छिपे हुए शुल्क लेते हैं। वे अस्वीकार्य और उच्च-स्तरीय पुनर्प्राप्ति विधियों को अपनाते हैं। वे उधारकर्ताओं के मोबाइल फोन पर डेटा तक पहुंचने के लिए समझौतों का दुरुपयोग करते हैं। जनता को अनधिकृत डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म और मोबाइल ऐप से सावधान रहना चाहिए। जनता को ऑनलाइन या मोबाइल ऐप के माध्यम से ऋण देने वाली कंपनी/फर्म के पूर्ववृत्त का सत्यापन करना चाहिए। उपभोक्ताओं को कभी भी केवाईसी दस्तावेजों की प्रतियां अज्ञात व्यक्तियों या असत्यापित/अनधिकृत ऐप्स के साथ साझा नहीं करनी चाहिए। वे ऐप से जुड़े ऐसे ऐप/बैंक खाते की जानकारी संबंधित कानून प्रवर्तन एजेंसियों को रिपोर्ट कर सकते हैं या शिकायत दर्ज करने के लिए सचेत पोर्टल (https://sachet.rbi.org.in) का उपयोग कर सकते हैं।

-प्रियंका सौरभ

आज के दिन आपके सामने अवैध लोन ऐप की भरमार है। दरअसल देशभर में ऐप्स के जरिए अवैध रूप से कर्ज देने वाली सैंकड़ों कंपनियां ठगी कर जरिया बन रही हैं। हाल ही में केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने भी देश में अवैध लोन ऐप्स के धंधे को लेकर अहम बैठक की थी। इस बैठक में माना गया कि ये एप्स भारतीय रिजर्व बैंक के नियम, कानून के दायरे से बाहर रहकर बड़े पैमाने पर कर्ज बांट रहे हैं। साथ ही लोगों को डरा-धमकाकर ऊंची ब्याज दरों पर वसूली कर रहे हैं। अवैध ऋण एप्स की ठगी का शिकार लोगों के आत्महत्या के मामले भी सामने आ रहे हैं। ईडी के छापों में काली कमाई के नेटवर्क का भंडाफोड़ भी हुआ है। मुद्दा गंभीर है आपसे जुड़ा है इसलिए अवैध ऋण एप्स के इस पूरे मामले को समझना। जानना जरूरी है।  डिजिटल लोन में प्रमाणीकरण और क्रेडिट मूल्यांकन के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाकर वेब प्लेटफॉर्म या मोबाइल ऐप के माध्यम से उधार देना शामिल है। बैंकों ने पारंपरिक उधार में मौजूदा क्षमताओं का लाभ उठाकर डिजिटल ऋण बाजार में टैप करने के लिए अपने स्वयं के स्वतंत्र डिजिटल ऋण देने वाले प्लेटफॉर्म लॉन्च किए हैं। यह भारत में विशेष रूप से सूक्ष्म उद्यम और निम्न-आय वाले उपभोक्ता खंड में बड़ी अधूरी ऋण आवश्यकता को पूरा करने में मदद करता है। यह अनौपचारिक उधार को कम करने में मदद करता है क्योंकि यह उधार लेने की प्रक्रिया को सरल करता है। यह शाखा में कार्य ऋण आवेदनों पर खर्च किए गए समय को कम करता है। डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म को ओवरहेड लागत में 30-50% की कटौती करने के लिए भी जाना जाता है।

मगर इस बात का फायदा उठाकर अनधिकृत डिजिटल लेंडिंग प्लेटफार्म और मोबाइल एप्लिकेशन की बढ़ती संख्या चिंता का कारन बनी है। वे अत्यधिक ब्याज दर और अतिरिक्त छिपे हुए शुल्क लेते हैं। वे अस्वीकार्य और उच्च-स्तरीय पुनर्प्राप्ति विधियों को अपनाते हैं। वे उधारकर्ताओं के मोबाइल फोन पर डेटा तक पहुंचने के लिए समझौतों का दुरुपयोग करते हैं। जनता को अनधिकृत डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म और मोबाइल ऐप से सावधान रहना चाहिए। जनता को ऑनलाइन या मोबाइल ऐप के माध्यम से ऋण देने वाली कंपनी/फर्म के पूर्ववृत्त का सत्यापन करना चाहिए। उपभोक्ताओं को कभी भी केवाईसी दस्तावेजों की प्रतियां अज्ञात व्यक्तियों या असत्यापित/अनधिकृत ऐप्स के साथ साझा नहीं करनी चाहिए। वे ऐप से जुड़े ऐसे ऐप/बैंक खाते की जानकारी संबंधित कानून प्रवर्तन एजेंसियों को रिपोर्ट कर सकते हैं या शिकायत दर्ज करने के लिए सचेत पोर्टल (https://sachet.rbi.org.in) का उपयोग कर सकते हैं। डिजिटल लेंडिंग ऐप्स को लेकर बहुत सी समस्याएं हैं। वे जल्दी और परेशानी मुक्त तरीके से ऋण के वादे के साथ उधारकर्ताओं को आकर्षित करते हैं। लेकिन, उधारकर्ताओं से अत्यधिक ब्याज दर और अतिरिक्त छिपे हुए शुल्क की मांग की जाती है। ऐसे प्लेटफ़ॉर्म अस्वीकार्य और उच्च-स्तरीय पुनर्प्राप्ति विधियों को अपनाते हैं। वे उधारकर्ताओं के मोबाइल फोन पर डेटा तक पहुंचने के लिए समझौतों का दुरुपयोग करते हैं।

गूगल अपने एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म का उपयोग करने वाले 95% स्मार्टफ़ोन के साथ भारत के ऐप बाज़ार पर हावी है, गूगल को भारत सरकार और केंद्रीय बैंक द्वारा भारत में अवैध डिजिटल ऋण देने वाले अनुप्रयोगों के उपयोग को रोकने में मदद करने के लिए और अधिक कड़े चेक पेश करने के लिए कहा है। भले ही गूगल भारतीय रिज़र्व बैंक  के दायरे में नहीं आता है, लेकिन पिछले कुछ महीनों में केंद्रीय बैंक और भारत सरकार की बैठकों में यू.एस. टेक दिग्गज को कई बार बुलाया गया है और सख्त चेक और बैलेंस पेश करने का आग्रह किया गया है। जो ऐसे ऐप्स को बाहर निकालने में मदद कर सकता है। भारतीय नियामकों ने पहले ही उधारदाताओं को अवैध उधार देने वाले ऐप्स के खिलाफ जांच करने के लिए कहा है, जो महामारी के दौरान लोकप्रिय हो गए थे। नियामक ऐसे ऐप्स के प्रसार को नियंत्रित करना चाहते हैं जो अनैतिक गतिविधियों में संलग्न हैं जैसे कि अत्यधिक ब्याज दर और शुल्क वसूलना या वसूली प्रथाओं में जो केंद्रीय बैंक द्वारा अधिकृत नहीं हैं या मनी लॉन्ड्रिंग और अन्य सरकारी दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते हैं।

लोगों को "इस तरह की बेईमान गतिविधियों" के शिकार होने के खिलाफ चेतावनी देते हुए, आरबीआई ने कहा, "वैध सार्वजनिक ऋण गतिविधियों को बैंकों, गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) द्वारा आरबीआई और अन्य संस्थाओं द्वारा पंजीकृत किया जा सकता है जो वैधानिक प्रावधानों जैसे संबंधित राज्यों के धन उधार अधिनियम के तहत राज्य सरकारों द्वारा विनियमित होते हैं।  भारत एक डिजिटल ऋण क्रांति के कगार पर है और यह सुनिश्चित कर रहा है कि यह ऋण जिम्मेदारी से किया जाता है।  डिजिटल ऋणदाताओं को सक्रिय रूप से एक आचार संहिता विकसित और प्रतिबद्ध करनी चाहिए जो प्रकटीकरण और शिकायत निवारण के स्पष्ट मानकों के साथ अखंडता, पारदर्शिता और उपभोक्ता संरक्षण के सिद्धांतों को रेखांकित करती है। तकनीकी सुरक्षा उपायों को स्थापित करने के अलावा, डिजिटल उधार के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए ग्राहकों को शिक्षित और प्रशिक्षित करना भी महत्वपूर्ण है। डिजिटल लेंडिंग ऐप्स को हितधारकों के परामर्श से स्थापित की जाने वाली नोडल एजेंसी द्वारा सत्यापन प्रक्रिया के अधीन किया जाना चाहिए। डिजिटल लेंडिंग इकोसिस्टम में प्रतिभागियों को शामिल करते हुए एक स्व-नियामक संगठन (एसआरओ) की स्थापना करना इस समस्या को सुलझा सकता है।

डिजिटल ऋणों के लिए अवांछित वाणिज्यिक संचार का उपयोग प्रस्तावित एसआरओ द्वारा लागू की जाने वाली आचार संहिता द्वारा नियंत्रित किया जाए।
प्रस्तावित एसआरओ द्वारा ऋण सेवा प्रदाताओं की 'नकारात्मक सूची' का रखरखाव, ऋणों का संवितरण सीधे उधारकर्ताओं के बैंक खातों में होना चाहिए।
सभी डेटा भारत में स्थित सर्वरों में संग्रहित किया जाये और दस्तावेजीकरण के लिए डिजिटल उधार में उपयोग की जाने वाली एल्गोरिथम विशेषताओं को आवश्यक पारदर्शिता सुनिश्चित करनी चाहिए। ग्राहक सुरक्षा को बढ़ाते हुए और डिजिटल ऋण देने वाले पारिस्थितिकी तंत्र को सुरक्षित और नवीन बनाते हुए अधिक वैध उधारदाताओं को प्रोत्साहित करें। भारत में डिजिटल उधार बाजार तेजी से विकसित हो रहा है, और चौथी औद्योगिक क्रांति के साथ यह डिजिटल-भी से डिजिटल-प्रथम से केवल-डिजिटल में बदलाव का समय है। अब यह डिजिटल ऐप्स पर निर्भर है कि वे नियमों से खेलें और खुद को सेल्फ रेगुलेट करें।
 आरबीआई को वास्तविक समय के आधार पर उधार देने वाले ऐप्स को ट्रैक करने के लिए आवश्यक आवश्यक तकनीक और तकनीकी विशेषज्ञता से लैस होना चाहिए।