कामधेनु सेना का जिला स्तरीय अधिवेशन हिंगोला में धूमधाम से संपन्न

इस अधिवेशन में कामधेनु सेना के संस्थापक श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर स्वामी कुशाल गिरी जी महाराज के सानिध्य में 1001  गौ सैनिकों ने त्रिशूल दीक्षा लेकर गौ सेवा की शपथ ली। 

कामधेनु सेना का जिला स्तरीय अधिवेशन हिंगोला में धूमधाम से संपन्न
कामधेनु सेना का जिला स्तरीय अधिवेशन हिंगोला में धूमधाम से संपन्न

स्वामी कुशाल गिरी महाराज के सानिध्य में 1001 गौ सैनिकों ने त्रिशूल दीक्षा लेकर ली गौ सेवा की शपथ
मदनसिंह के राजपुरोहित
जोधपुर। कामधेनु सेना के प्रदेश प्रभारी नरसिंह गहलोत ने बताया कि कामधेनु सेना का जिला स्तरीय अधिवेशन 22 जून बुधवार को श्री सती माता गौशाला हिंगोला में धूमधाम से संपन्न हुआ. इस अधिवेशन में कामधेनु सेना के संस्थापक श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर स्वामी कुशाल गिरी जी महाराज के सानिध्य में 1001  गौ सैनिकों ने त्रिशूल दीक्षा लेकर गौ सेवा की शपथ ली। 

कार्यक्रम में उद्बोधन के दौरान स्वामी जी ने राज्य सरकार द्वारा 9 महीने का अनुदान पारित करने पर धन्यवाद ज्ञापित किया और गौशालाओं को अनुदान के दौरान आने वाली समस्याओं के बारे में विचार विमर्श किया और गांवों में गौचर भूमि को अतिक्रमण मुक्त करवाने, गोचर भूमि में चारागाह विकसित करने,गौ चिकित्सालय नागौर में पशु कंपाउंडर तैयार करके राज्यों के अनेक जिलों में भेजकर गोवंश का इलाज करवाने की योजना के बारे में बताया और कामधेनु सेना के राष्ट्रहित गौहित मिशन के बारे में जानकारी दी। 

साथ ही जिला और ग्राम स्तर तक संगठन का विस्तार करने के लिए विचार विमर्श किया और कामधेनु सेना के नये राष्ट्रीय प्रभारी के पद पर पद रोहित विश्नोई, राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर रिछपाल चौधरी, कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष ललित पालीवाल, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद पर अचलसिंह राजपुरोहित, राष्ट्रीय महासचिव सूबेदार दामोदर शर्मा,प्रदेश अध्यक्ष पद पद राजस्थान अशोक राणेंजा का चयन करके कार्यकारिणी का विस्तार किया और हमेशा सक्रिय रहकर कार्य करने वाले कामधेनु सैनिकों को गौ रक्षक की उपाधी से नवाजा गया।

आसपास की गौशालाओं के पदाधिकारियों का स्वागत सम्मान किया। इस दौरान जोधपुर जिले व राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, सहित कई राज्यों के पदाधिकारी शामिल हुए, सक्रिय पदाधिकारियों के उद्बोधन में गौसेवा व संगठन विस्तार पर जोर दिया गया। प्रदेश प्रभारी गहलोत ने प्रशासन के साथ मिलकर संगठन को कैसे आगे बढ़ाना है इस पर जानकारी दी और भामाशाहों से संपर्क करके गौचर विकास कैसे किया जाए और गौशालाओं की आर्थिक स्थिति कैसे मजबूत हो इस पर विचार विमर्श किया और ग्राम स्तर तक संगठन को मजबूत बनाने के बारे में अवगत कराया।

इस दौरान, झंवर थाना अधिकारी मनोज कुमार परिहार मंय स्टाफ, भंवरलाल पटेल सरपंच झंवर,श्री सती माता गौशाला के संस्थापक पंडित ओमप्रकाश राणेंजा, सचिव जबर सिंह राजपुरोहित, कोषाध्यक्ष अचल सिंह राजपुरोहित, बद्रीनारायण राणेंजा, मोहनराम सोलंकी, तिलोक मोदी,फतेह सिंह राजपुरोहित, देवाराम जवलिया, मदनलाल जैन,चुनाराम चौधरी, खरताराम मुंडण, भंवरा राम बिश्नोई, श्यामसुंदर राणेंजा, मदन सिंह राजपुरोहित, पुखराज शर्मा, प्रकाश गहलोत, महादेव शर्मा, सुमेर सिंह राठौड़, रतन बागड़ी, श्रवण सैन, दीपेंद्रसिंह राठौड़, प्रेम सिंह सोलंकी, कमलेश सांखला, मदनलाल टाक, नैनसुख प्रजापत, महादेव जाखड़,बगतराम गोदारा बावरली,सोहनराम पटेल, बुद्धा राम पटेल, धर्मवीर पटेल, प्रेमाराम पटेल, श्यामसुंदर राणेंजा, दुर्गाराम जाखड़, मनोहर भडियार, हनुमान दास तंवर, बाबूदास वैष्णव सहित सैकड़ों पदाधिकारी व हजारों कार्यकर्ता उपस्थित रहे।