राज्य सरकार ने 15 हजार 600 करोड रूपये से अधिक के फसल बीमा क्लेम वितरित किये - कृषि मंत्री

राज्य सरकार ने 15 हजार 600 करोड रूपये से अधिक के  फसल बीमा क्लेम वितरित किये - कृषि मंत्री

फसल बीमा पाठशाला कार्यक्रम -

राज्य सरकार ने 15 हजार 600 करोड रूपये से अधिक के 

फसल बीमा क्लेम वितरित किये - कृषि मंत्री

कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनांतर्गत राज्य में अनावृष्टि अथवा अतिवृष्टि के कारण फसलों में हुए नुकसान के चलते सरकार द्वारा पिछले 3 वर्षो से अधिक समय के दौरान 1 करोड 23 लाख फसल बीमा पॉलिसी धारक किसानों को 15 हजार 600 करोड रूपये से अधिक के फसल बीमा क्लेम वितरित किये गये। कटारिया ने यह बात प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर की अध्यक्षता में आयोजित फसल बीमा पाठशाला कार्यक्रम को ऑन-लाईन सम्बोधित करते हुए कही। पाठशाला का आयोजन चयनित ग्राम पंचायतों में 25 अप्रैल से 1 मई तक होगा। 

कृषि मंत्री ने अपने सम्बोधन में कहा कि राज्य के किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए ‘‘मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना’’ की राशि को 2 हजार करोड़ से बढ़ाकर 5 हजार करोड रूपये कर दी है इसके अतिरिक्त राजस्थान सूक्ष्म सिंचाई मिषन के तहत आगामी तीन वर्ष में 4 लाख से अधिक किसानों को ड्रिप/फव्वारा, 50 हजार किसानों को पाईप लाईन, 45 हजार कृषकों को फार्म पौण्ड तथा 300 सामुदायिक जल स्त्रोत पर अनुदान उपलब्ध करवाया जायेगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री राजस्थान जैविक खेती मिषन के तहत आगामी 3 वर्ष में लगभग 4 लाख किसानों को जैविक खेती कार्यक्रम से लाभान्वित करने की योजना है। इसके लिए एक ऑर्गेनिक बोर्ड का भी गठन भी किया जाएगा।

कटारिया ने बताया कि राजस्थान बीज उत्पादन एवं वितरण मिषन के तहत आगामी 2 वर्ष में 50 हजार किसानों को बीज स्वावलम्बन योजना से लाभान्वित किया जायेगा तथा 12 लाख लघु सीमान्त कृषकों को प्रमाणित किस्मों के बीज मिनिकिट निषुल्क उपलब्ध कराने के साथ 3 लाख पशुपालकों कृषकों को हरा चारा बीज मिनिकिट उपलब्ध कराया जायेगा। 

कृषि मंत्री ने कहा कि राजस्थान संरक्षित खेती मिषन के तहत आगामी 2 वर्ष में 25 हजार किसानों को ग्रीन हाउस, षेडनेट हाउस तथा लोटनल की स्थापना के लिए तथा 10 हजार किसानों को फल-बगीचे विकसित करने के लिए अनुदान दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि राजस्थान फसल सुरक्षा मिषन के तहत 2 वर्ष में एक करोड़ 25 लाख तारबन्दी करवायी जायेगी तथा 3 किसानों को एक यूनिट मानने की शर्त को समाप्त कर एकल कृषक को भी लाभान्वित किया जायेगा। आगामी 2 वर्ष में 60 हजार किसानों को कृषि यंत्र अनुदान पर उपलब्ध कराये जायेंगे, 1 हजार 500 कस्टम हायरिंग सेन्टर की स्थापना होगी तथा 1 हजार ड्रोन उपलब्ध कराये जायेंगे। उन्होंने कहा कि एक लाख किसानों को सोलर पम्प स्थापित करने के लिये अनुदान उपलब्ध कराया जायेगा तथा एसटी, एससी कृषकों को 45 हजार रूपये का अतिरिक्त अनुदान उपलब्ध कराया जायेगा।

कटारिया कहा कि किसानों को ‘‘राज किसान साथी पोर्टल’’ पर आवेदन करके विभाग की विभिन्न योजनाओं के लाभ उठाना चाहिए साथ ही अपनी शिकायतों को भी इस पोर्टल पर दर्ज करानी चाहिए। 

कटारिया ने कहा कि किसानों को कृषि की योजनाओं के साथ-साथ पशुपालन, मत्स्य पालन आदि योजनाओं से भी लाभान्वित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री द्वारा राज्य में अधिक संख्या में कृषि महाविद्याालय खोले गये हैं। राज्य में पशुधन के बीमा के साथ नस्ल सुधार कार्यक्रम एवं गाय सर्वधन योजना से भी कृषकों को लाभान्वित किया जा रहा है। पशुपालकों को पशुधन हेतु मुफ्त दवाई तथा पशुधन हेतु एम्बूलेंस की सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई है। चूरू जिले में फार्म-पौण्ड द्वारा सिंचाई के साथ-साथ मत्स्य पालन भी हो रहा है। 

कार्यक्रम में राज्य स्तर से कृषि विभाग के आयुक्त कानाराम, सीएससी के अधिकारी, फसल बीमा अनुभाग के अधिकारियों एवं बीमा कंपनियों के अधिकारियों ने भाग लिया।