राधिका मदान की फिल्म "कच्चे लिंबू" बैंकॉक इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल और केरला इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में हुई सिलेक्ट

राधिका मदान की फिल्म "कच्चे लिंबू" बैंकॉक इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल और केरला इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में हुई सिलेक्ट
राधिका मदान की फिल्म "कच्चे लिंबू" बैंकॉक इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल और केरला इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में हुई सिलेक्ट
मुंबई : जियो स्टूडियोज और मैंगो पीपल मीडिया निर्मित "कच्चे लिंबू " को बैंकॉक इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल और केरला इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में चुना गया है। हालही में ४७वें टोरंटो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल (टीआईएफएफ) में इस फिल्म का वर्ल्ड प्रीमियर हुआ था।  युवा पीढ़ी की होनहार अभिनेत्री राधिका मदान, रजत बरमेचा (उड़ान) और आयुष मेहरा (कॉल माय एजेंट - बॉलीवुड) अभिनित और नवोदित फिल्म निर्माता शुभम योगी द्वारा निर्देशित, ज्योति देशपांडे, प्रांजल खंडिया और नेहा आनंद द्वारा निर्मित कच्चे लिंबू को टीआईएफएफ में गाला प्रेजेंटेशन प्रोग्राम में प्रदर्शित किया गया था।
     
अपने उत्साह को साझा करते हुए, मुख्य अभिनेत्री राधिका मदान ने कहा, मुझे बहुत अच्छा लग रहा है कि “टीआईएफएफ में अपने वर्ल्ड प्रीमियर के साथ, हमारी फिल्म कच्चे लिंबु को दुनिया के विभिन्न हिस्सों में प्यार मिल रहा है।  मैं रोमांचित हूं कि इसे बैंकाक और आईएफएफके में विश्व फिल्म समारोह में चुना गया है।  यह एक ऐसी फिल्म है जो मेरे दिल के बहुत करीब है और मैं दर्शकों द्वारा इसे देखने का बेसब्री से इंतजार कर रही हूं।"
     
राधिका की तरह अपना उत्साह साझा करते हुए निर्देशक शुभम योगी ने कहा, “कच्चे लिंबु  एक ऐसी फिल्म है जो आपकी आवाज खोजने पर मजबूर करेगी। टीआईएफएफ में अपने सफल प्रदर्शन के बाद, बैंकॉक और आईएफएफके फिल्म समारोहों जैसे प्रतिष्ठित समारोहों में मंच मिलने के लिए मैं खुदको धन्य और आभारी महसूस करता हूं ।  एक नवोदित फिल्म निर्माता के रूप में, मैं इससे बेहतर शुरुआत की उम्मीद नहीं कर सकता।"
     
कच्चे लिंबु एक दिल को छू लेने वाला सिबलिंग ड्रामा है। यह अदिति की कहानी है, एक ऐसी दृढ़ इच्छाशक्ति वाली युवा लड़की है जो हर किसी के द्वारा अपने ऊपर लादे गए सपनों को पूरा करने की दौड़ में है और सफलता भी प्राप्त कर रही है।  साहस, दृढ़ संकल्प और खुद को खोजने की कहानी के साथ साथ यह एक भावनात्मक रोलरकोस्टर है जिसमें वह अपने परिवार, दोस्तों और विशेष रूप से अपने बड़े भाई को यह साबित करने का फैसला करती है कि, ध्येय को लेकर कन्फ्यूज़ होना मतलब कोई गलती नही है ,  समय के साथ, सही निर्णय आप तक अपना रास्ता खोज ही लेगा।
   
बैंकॉक का वर्ल्ड फिल्म फेस्टीवल 2 दिसंबर से शुरू होगा और 11 दिसंबर को समाप्त होगा।  केरल का 27वां अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव 9 से 16 दिसंबर तक तिरुवनंतपुरम में होगा।