आखिरी छोर पर बैठा व्यक्ति विकास की योजनाओं से लाभान्वित हो

आखिरी छोर पर बैठा व्यक्ति विकास की योजनाओं से लाभान्वित हो

आखिरी छोर पर बैठा व्यक्ति विकास की योजनाओं से लाभान्वित हो

- अध्यक्ष, राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास आयोग

राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास आयोग के अध्यक्ष डॉ. शंकर यादव ने कहा कि सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को आम जन तक ले जाने तथा आखिरी छोर पर बैठे व्यक्ति को विकास की योजनाओं से लाभान्वित कर उन्हें विकास की दौड में भागीदार बनाना है। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है समाज का दलित, कमजोर, बेसहारा व्यक्ति विकास से जुडे एवं सरकार के प्रतिनिधि एवं अधिकारी सहारा बनकर उनके द्वार तक दस्तक दे।

डॉ. यादव की अध्यक्षता में शुक्रवार को राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास आयोग की प्रथम बैठक यहां नेहरू सहकार भवन में आयोजित की गई। यादव ने कहा कि पूरी सजगता व ईमानदारी से विभिन्न योजनाओं का प्रदेश में न केवल व्यापक प्रचार प्रसार किया जावे बल्कि योजनाओं को लागू करने व अमली जामा पहनाने में सामूहिक उत्तरदायित्व की भावना से कार्य करें। 

उन्होंने कहा कि योजनाओं के क्रियान्वयन में आ रही रूकावटे दूर करवाने के लिए और बजट राशि बढाने के लिए मांग पत्र राज्य के मुख्यमंत्री व सामाजिक न्याय मंत्री को भेजा जाकर लघु एवं कुटीर उद्योगों के साथ साथ पुश्तैनी उद्योग धन्धों को बढ़ावा दिया जाए। अनुसूचित जाति वर्ग की विभिन्न जातियों को पुश्तैनी धन्धों व रोजगार उपलब्ध कराने के लिए ब्याज मुक्त ऋण की व्यवस्था सुनिश्चित की जावे। 

उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार के द्वारा अधिकतम आय सीमा 54300 रुपये ग्रामीण में व शहरी क्षेत्र 60,120 रुपये है, जो 25 वर्ष पुरानी है, इसे बढ़ाया जाकर कम से कम 3 लाख रुपये किया जावे। उन्होंने दस हजार की अनुदान राशि को बढ़ाकर कम से कम पचास हजार रूपये करने की मांग की गई। 

बैठक में ऋण के सरलीकरण व नवीन योजनाओं को लागू करने के लिए ऋण सीमा तथा अतिरिक्त बजट राशि बढाने तथा जिला व मुख्यालय पर रिक्त पदों को शीघ्रतीशीघ्र भरने व नियुक्तियां कराने की मांग की गई ताकि योजनाओं को तीव्रता से जिला व गावं स्तर पर ठोस रूप से लागू किया जावे। 

बैठक में राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास आयोग के गठन पर मुख्यमंत्री अशोेक गहलोत का धन्यवाद ज्ञापित किया। बैठक में गत वर्षाे के कार्यक्रमों एवं भविष्य की योजनाओं पर विस्तार से चर्चा की गई।

बैठक में उपाध्यक्ष अवधेश दिवाकर, महाप्रबन्धक सोहन लाल धानका व दीपिका सागर, प्रबन्धक सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।