दुनिया के प्रतिष्ठित म्यूजिक संस्थान बर्कली कॉलेज ऑफ म्यूजिक से म्यूजिक डिग्री लेने वाले राजस्थान के पहले व्यक्ति बने जयपुर के अभि आचार्य

अभि ने बर्कली के फिल्म स्कोरिंग स्टूडियो और शेम्स फैमिली स्कोरिंग स्टेज में एक ऑडियो इंजीनियर के रूप में काम भी किया जो कि प्रतिष्ठित बर्कली इंडियन एन्सेम्बल का हिस्सा था, जिसने एक दशक तक भारत की बेहतरीन संगीत प्रतिभा और एआर रहमान, श्रेया घोषाल, शंकर महादेवन, इंडियन ओशन, रघु दीक्षित जैसे अन्य दिग्गजों के साथ काम व सहयोग किया है। 

दुनिया के प्रतिष्ठित म्यूजिक संस्थान बर्कली कॉलेज ऑफ म्यूजिक से म्यूजिक डिग्री लेने वाले राजस्थान के पहले व्यक्ति बने जयपुर के अभि आचार्य
दुनिया के प्रतिष्ठित म्यूजिक संस्थान बर्कली कॉलेज ऑफ म्यूजिक से म्यूजिक डिग्री लेने वाले राजस्थान के पहले व्यक्ति बने जयपुर के अभि आचार्य
बर्कली कॉलेज ऑफ म्यूजिक, बोस्टन और न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से पासआउट जयपुर के रहने वाले अभि आचार्य, संगीत उद्योग में एक संगीतकार, कलाकार, निर्माता और अब एक संगीत व्यवसाय के पेशेवर के रूप में उभर रहे हैं। अभि दुनिया के बेहतरीन म्यूजिक इंस्टीट्यूट से म्यूजिक सीखने वाले और वहाँ से डिग्री प्राप्त करने वाले राजस्थान के पहले शख्स हैं। अभि ने दुनिया के प्रतिष्ठित म्यूजिक संस्थान बर्कली कॉलेज ऑफ म्यूजिक से फिल्म स्कोरिंग म्यूजिक प्रोडक्शन विषयों के साथ बैचलर आफ म्यूजिक की डिग्री और न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से म्यूजिक बिजनेस में मास्टर्स प्राप्त की है। अभि बर्कली कॉलेज में स्टडी करते हुए 
लगातार चार वर्ष तक डीन लिस्ट स्टूडेंट कैटेगरी में भी रहे हैं। डिग्री करने से पूर्व अभि ने क्वालालाम्पुर स्थित इंटरनेशनल कालेज आफ म्यूजिक में भी दो वर्ष तक म्यूजिक प्रोडक्शन का अध्ययन किया था। अभि ने ट्रिनिटि कालेज आफ म्यूजिक, लंदन के विद्यार्थी के रूप में अपनी संगीत यात्रा एक गिटारिस्ट के रूप में आरंभ की थी। बोस्टन में रहते हुए अभि ने बर्कली में कुछ बेहतरीन संगीतकारों के साथ परफॉर्म किया और संगीत भी बनाया। वे बर्कली कोलेज में ही इण्डियन एन्सेम्बल का हिस्सा भी रहे। बर्कली वर्ल्ड टूर छात्रवृत्ति ने उन्हें फिल्म और वीडियो गेम स्कोरिंग का अध्ययन करने में मदद की। अभि ने बर्कली के फिल्म स्कोरिंग स्टूडियो और शेम्स फैमिली स्कोरिंग स्टेज में एक ऑडियो इंजीनियर के रूप में काम भी किया जो कि प्रतिष्ठित बर्कली इंडियन एन्सेम्बल का हिस्सा था, जिसने एक दशक तक भारत की बेहतरीन संगीत प्रतिभा और एआर रहमान, श्रेया घोषाल, शंकर महादेवन, इंडियन ओशन, रघु दीक्षित जैसे अन्य दिग्गजों के साथ काम व सहयोग किया है। 
एंसेम्बल की निर्देशक, एनेट फिलिप के नेतृत्व में एन्सेम्बल ने जादुई ध्वनि बनाने का एक दशक पूरा कर लिया है और अपना पहला एल्बम 'शुरुआत' हाल ही में जारी किया है, जिसमें अभि को भी 'दुआ' ट्रैक में एक गिटारिस्ट के रूप में फीचर किया गया है। एल्बम में उस्ताद जाकिर हुसैन के साथ साथ शंकर महादेवन, श्रेया घोषाल, विजय प्रकाश और शैडो एन्ड लाइट का भी मार्गदर्शन व सक्रिय सहयोग शामिल है। अभि ने इसी वर्ष न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से मास्टर्स डिग्री हासिल की, जहां उन्होंने प्रसिद्ध जैज प्लेटफार्म "ब्लू नोट" और प्रतिष्ठित सोनी हॉल के लिए काम करने वाले एक संगीत व्यवसाय पेशेवर के रूप में अनुभव प्राप्त करना शुरू किया और बाद में एक म्यूजिक लाइसेंसिंग ब्रांड "फ्लेवरलैब" के लिए भी काम किया, जिसने एमी अवार्ड विनिंग शो "वाइस" के लिए संगीत में योगदान दिया है। वर्तमान में अभि, न्यूयार्क में ही म्यूजिक व्यवसाय की कम्पनी, "क्यू एंड ए" में काम कर रहे हैं, जिसे लेडी गागा के पूर्व मैनेजर ट्रॉय कार्टर ने स्थापित किया था। अभि, सबसे बड़े भारतीय शॉर्ट वीडियो ऐप "जोश" में भी काम कर चुके है, जिसकी वैल्यू 2022 में 5 बिलियन डॉलर है और इसके 150 मिलियन एक्टिव यूजर्स हैं।  अभि, भारत में फोक म्यूजिक को प्रमोट  करने वाले नोएडा, नई दिल्ली स्थित एनजीओ "अनाहद फाउंडेशन" का भी हिस्सा रहे हैं। 
अभि ने डोलन रिकॉर्डिंग स्टेज, न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय (न्यूयॉर्क), बर्कली परफॉर्मेंस सेंटर, शम्स फैमिली स्कोरिंग स्टेज (बोस्टन, यूएसए), बाबसन कॉलेज (वेलेस्ली, यूएसए), जोमालैंड इंडिया (नई दिल्ली), हार्ड रॉक कैफे (नई दिल्ली), ब्लू फ्रॉग (बैंगलोर) जैसी जगहों पर अलग अलग फेस्टिवल थीम पर परफॉर्म किया है। इसके साथ ही NH7 वीकेंड एक्सप्रेस और मोटोरोला स्पॉटलाइट कॉन्सर्ट्स में भी उन्होंने अपनी आवाज का जादू बिखेरा है। अभि के पास एक फिल्म संगीतकार के रूप में अनुभव है और उन्होंने विभिन्न इंडी म्यूजिक कलाकारों के लिए ट्रैक का निर्माण किया है और साथ ही वह "आर्टिस्टिक" नामक मल्टी सिटी कॉन्सर्ट सीरीज के सह क्यूरेटर भी हैं। अभि इस साल अपना खुद का संगीत रिलीज करने की योजना बना रहे हैं और संगीत उद्योग में संगीतकारों और कलाकारों की बेहतरी की दिशा में काम करना जारी रखना चाहते हैं।