MPUAT में बालिकाओं हेतु आत्मरक्षा कौशल विषयक दस दिवसीय कार्यक्रम का शुभारंभ

 दिनांक 15 नवंबर 2021,महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय उदयपुर  के सामुदायिक एवं व्यावहारिक विज्ञान महाविद्यालय के मानव विकास एवं पारिवारिक अध्ययन द्वारा आयोजित एवं संस्थागत विकास कार्यक्रम, नाहेप,भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद,नई दिल्ली  द्वारा प्रायोजित  बालिकाओं हेतु आत्मरक्षा कौशल विषयक दस दिवसीय कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ।स्वागत संदेश प्रेषित करते हुए महाविद्यालय की अधिष्ठाता डॉ मीनू श्रीवास्तव ने कहा क्या आज के परिवेश में बालिकाओं को आत्म सुरक्षा हेतु तैयार करना अत्यंत आवश्यक है।

हम बालिकाओं को खान-पान ,पहनावा आदि  चीजों  की सुविधा तो प्रदान करते    हैं लेकिन उन्हें आत्म सुरक्षा नहीं सिखाते जो कि बहुत जरूरी है ।आए दिन हम अखबारों में पढ़ते हैं कि बालिकाओं के साथ अपराधिक तत्व सक्रिय होकर न जाने क्या-क्या कर गुजरते हैं, ऐसे में यह कार्यक्रम बहुत ही प्रासंगिक है। आयोजन संयोजिका डॉ गायत्री तिवारी ने बताया कि बदलते समय में संबंधों में बहुत ही नकारात्मक पक्ष देखने को मिल रहे हैं , चाहे पिता हों, भाई हों या कोई भी करीबी रिश्तेदार हो, उनके द्वारा घर ही की बहू बेटियों के साथ बलात्कार ,हत्या , शारीरिक शोषण जैसे अपराध होना आम बात होती जा रही है।

साथ ही घरेलू हिंसा का बढ़ता ग्राफ भी इस बात की ओर इशारा कर रहा है कि  बालिकाओं को आत्म सुरक्षा हेतु तैयार किया जाए। उन्होंने कहा कि  पुरातन काल में भी महिलाओं को तीरंदाजी और घुड़सवारी सिखाई जाती थी ताकि वे  आत्म रक्षा कर सकें। पुनः वह समय आ गया है जब हम लड़कियों को आत्मरक्षा के लिए सुरक्षा के लिए बचाव के लिए तैयार करें।

घरेलू हिंसा का बढ़ता ग्राफ भी इसकी महत्ता का द्योतक है।राष्ट्र स्तरीय मार्शल आर्ट एक्सपर्ट श्री हरीश सांवरिया और सुश्री मानसी द्वारा आत्म सुरक्षा की आवश्यकता एवम महत्व के सैद्धांतिक पक्ष पर प्रकाश डालने के पश्चात उन्हें मार्शल आर्ट के प्रायोगिक पक्षों से रूबरू करवाया गया,जिनका अभ्यास प्रतिभागियों को प्रतिदिन करवाया जाएगा।फिलहाल इसमें तीस छात्राओं का रजिस्ट्रेशन किया गया है।भविष्य में मांग आधारित ऐसे और भी कार्यक्रम का आयोजन किया जा सकता है।कार्यक्रम की सह आयोजन सचिव डॉ हेमू राठौड़ तथा समन्वयक डॉ स्नेहा जैन, श्रीमती रेखा राठौड़ ,श्रीमती पूनम चौधरी और सुश्री विशाखा त्यागी हैं।


सांगरी टुडे हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें