स्वच्छ पवन- नील गगन कार्यशाला का आयोजन

मानव स्वास्थ्य की रक्षा एवं वायु गुणवत्ता सुधार के प्रयासों को बढ़ावा देने के लिये
स्वच्छ पवन- नील गगन कार्यशाला का आयोजन

’’स्वच्छ पवन-नील गगन’’ अन्तर्राष्ट्रीय दिवस (7 सितम्बर) के अवसर पर राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मण्डल एवं सेन्टर फॉर साइंस एण्ड एनवायरमेंट, दिल्ली द्वारा मंगलवार को राज्य के जयपुर, जोधपुर, कोटा, अलवर एवं उदयपुर जिलों में ऑनलाईन कार्यशाला का आयोजन किया गया। 

मानव स्वास्थ्य की रक्षा एवं वायु गुणवत्ता सुधार के प्रयासों को बढ़ावा देने के लिये प्रतिवर्ष 7 सितम्बर को’’स्वच्छ पवन-नील गगन’’ अन्तर्राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है। इस वर्ष का विषय ’’स्वच्छ वायु, स्वस्थ ग्रह’’ है जो विशेष रूप से कोविड -19 महामारी के दौरान वायु प्रदूषण के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले विपरीत प्रभावों पर जोर देता है । इसका उद्देश्य सभी के लिये स्वच्छ हवा की आवश्यकता को प्राथमिकता देना है।
स्वच्छ हवा के प्रयासों को सामूहिक रूप से उल्लेखित करने के लिए वेबिनार ने एक श्रृंखला के रूप में कार्य किया। यह कार्यक्रम स्वास्थ्य, उत्पादकता, अर्थव्यवस्था और पर्यावरण के लिए स्वच्छ हवा के महत्व के बारे में व्यक्तियों, समुदायों, कॉर्पोरेट्स और सरकार के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए आयोजित किया गया। 

वेबिनार में राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मण्डल की अध्यक्ष श्रीमती वीनू गुप्ता, मण्डल के सदस्य सचिव श्री आनंद मोहन, डॉ विजय सिंघल, मुख्य पर्यावरण अभियंता, आरएसपीसीबी, श्रीमती अनुमिता रॉय चौधरी, कार्यकारी निदेशक, सीएसई, श्री अतिन विश्वास एवं श्री पार्थ कुमार, सीएसई, ने अपने क्षेत्र के मुद्दों को साझा किया। कार्यशाला ने शहरी स्थानीय निकायों, उद्योग संघ, शिक्षाविदों और बड़ी संख्या में विद्यालयों, नागरिक समाज समूहों और मीडिया प्रतिनिधियों के साथ-साथ विविध समूहों को भी एक मंच पर साझा किया गया। आयोजन में राजस्थान के लगभग 287 स्कूलों को आमंत्रित किया गया था। 

वेबिनार की शुरूआत में मण्डल के मुख्य पर्यावरण अभियंता डॉ विजय कुमार सिंघल, ने राजस्थान सरकार द्वारा वायु गुणवत्ता में सुधार के लिए प्रयासों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। 

श्री आनंद मोहन ने राष्ट्रीय स्वस्च्छ वायु कार्यक्रम और राजस्थान के पांच गैर-प्राप्ति शहरों का एक सिंहावलोकन पेश किया और सीएसई और हितधारक एजेंसियों के साथ अपनी उल्लेखनीय टिप्पणियों को साझा किया। 

श्रीमती अनुमिता रॉय चौधरी ने राजस्थान के वायु प्रदुषण एवं सम्बन्धित विषय पर किये गये विभिन्न अध्ययनों के आकड़े साझा करते हुए अपने विचार व्यक्त किये। श्री पार्थ कुमार ने राजस्थान के विभिन्न शहरों में औद्योगिक प्रदूषण एवं श्री अतिन विश्वास, सीएसई, ने कचरा प्रबंधन तथा कचरे से संसाधन विषय पर अपने विचार व्यक्त किय।
वेबिनार में लगभग 100 प्रतिभागियों ने भाग लिया। 


सांगरी टुडे हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें