ऑनलाइन तहसीलों की जमाबंदी और खेतों के नक़्शे काश्तकार अब ई-मित्र या कम्प्यूटर से प्राप्त कर सकेंगे

ऑनलाइन तहसीलों की जमाबंदी और खेतों के नक़्शे काश्तकार अब ई-मित्र या कम्प्यूटर से प्राप्त कर सकेंगे- हरीश चौधरी

- मुंडावर तहसील ऑनलाइन होने के साथ ही राजस्थान में 300 तहसीलों का राजस्व रिकॉर्ड हुआ ऑनलाइन ।

डिजिटल इंडिया भू-अभिलेख आधुनिकीकरण कार्यक्रम (DILRMP) के तहत सोमवार को अलवर ज़िले की मुंडावर तहसील ऑनलाइन होने के साथ ही राजस्थान में 300 तहसीलें ऑनलाइन की गयी। राजस्व मंत्री हरीश चौधरी के मार्गदर्शन और प्रमुख शासन सचिव राजस्व श्री आनन्द कुमार के पर्यवेक्षण में तहसीलों के राजस्व रिकॉर्ड ऑनलाइन किया जा रहा है। जिससे ऑनलाइन तहसीलों के गाँवों की जमाबंदी और खेतों के नक़्शे काश्तकार एवं आम आदमी किसी भी ई-मित्र केंद्र या कम्प्यूटर से प्राप्त कर सकता है। राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने बताया कि राजस्व मंडल और राज्य सरकार ने आमजन को राहत देने के लिए ई- धरती सॉफ्वेयर के तहत जमाबंदी में प्रत्येक काश्तकार का नाम, पिता का नाम, निवासी, जाति व उसके हिस्से सहित दर्ज किया जा रहा है। जो कि प्रत्येक काश्तकार के डेटा बेस के रूप में तैयार होगा। उन्होंने बताया कि पूर्व में यह प्रविष्टि डेटा बेस के रूप में न होकर सभी काश्तकारों व सह-काश्तकारों का नाम संयुक्त रूप से लिखा होता था जिससे काश्तकार को अपने हिस्से की जानकारी मिलने में कठिनाई होती थी। लेकिन इस कार्य के द्वारा प्रत्येक काश्तकार अपना हिस्सा आसानी से पता कर सकता है। राजस्व मंत्री चौधरी का कहना है कि डिजिटाइजेशन ऑफ कैडस्ट्रल मैप कार्य के तहत जिले की समस्त तहसीलों के नक्शो को स्कैन किया जाकर उसका डिजिटाईजेशन किया गया है। उन नक्शों में पटवारी के जरिए तरमीम कार्य किया जाकर रिडिजिटाईजड किया जा रहा है। इससे काश्तकार को अपने खेत की नकल के साथ-साथ उसका नक्शा भी उपलब्ध होगा।

भू-प्रबंध आयुक्त श्री महेन्द्र कुमार पारख ने बताया कि लैंड रिकॉर्ड के कंप्यूटराइजेशन का कार्य राजस्व मंडल राजस्थान के माध्यम से जिला कलेक्टरों द्वारा कराया जा रहा है और भू-प्रबंध विभाग द्वारा इसकी नियमित समीक्षा की जा रही है। कोरोना संकट के बावजूद 15 अप्रैल 2021 के पश्चात बीस तहसीलों को ऑनलाइन किया गया है। यह प्रयास किया जा रहा है कि शेष रही 39 तहसीलों को भी आगामी दो तीन माह में ऑनलाइन किया जा सके।


सांगरी टुडे हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें