संत समागम एव सम्मान समारोह का आयोजन किया गया

संत समागम एव सम्मान समारोह का आयोजन किया गया

कैलाश सिंह राजपुरोहित

दिल्ली के मानसरोवर गार्डन के सी ब्लॉक पुराने सनातन धर्म मंदिर में सूर्यवंशी अखाड़ा परिषद ने श्री संत समागम एवं सम्मान समारोह का भव्य आयोजन किया! अंतरराष्ट्रीय सूर्यवंशी अखाड़ा परिषद ने भारत को सनातन धर्म का विश्व गुरु बनाने का संकल्प लेकर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जोर शोर से प्रचार प्रसार कर रहे हैं इसी प्रचार प्रसार के दौरान दिल्ली के मानसरोवर गार्डन में सनातन धर्म मंदिर में पधारें और अपने सनातन धर्म के बारे में लोगों को जागरूक किया। उन्होंने बताया कि पूरे विश्व का पहला धर्म सनातन धर्म है। और इसी धर्म से निकलकर ही अलग-अलग धर्मों का निर्माण हुआ है इसलिए सभी सनातन अपने पुराने सनातन धर्म की ओर लौटे और अपने देवी-देवताओं पर आस्था का दीप जगाएं! उन्होंने यह भी कहा कि पूरे विश्व में सनातन धर्म का प्रचलन हो । तभी हमारा देश सनातन धर्म गुरु बनेगा। इसी पावन बेला में अंतरराष्ट्रीय सूर्यवंशी अखाड़ा परिषद को श्री किशन पाल सिंह दिल्ली को श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर का और गुरुदयाल सिंह को महंत की उपाधि मंत्र उच्चारण द्वारा दी गई। श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर कृष्णपाल और महंत गुरुदयाल जी ने बताया कि यह मेरे जीवन की पहली इतनी बड़ी प्रसन्नता है। ऐसी शुभ घड़ी में इनके परिवार वाले भी खुशियां जाहिर कर रहे थें! सभी आए हुए सनातन धर्म के प्रचारक और सहयोगी तथा इस क्षेत्र में काम करने वाले कोअनुआइयों को तथा आए हुए सभी पत्रकारों को रुद्राक्ष की माला और सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया।

इस अवसर पर अंतरराष्ट्रीय सूर्यवंशी अखाड़ा परिषद के पीठाधीश्वर एवं सुप्रीमो श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर आचार्य दवेंद्र स्वामी उर्फ पुर्तगाली बाबा और अंतरराष्ट्रीय सूर्यवंशी अखाड़ा परिषद के जगद्गुरु बाबा श्री रतन महाराज एवं केरल से अंतरराष्ट्रीय महामंत्री आनंद नायक श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर डॉ.संजय सूर्यवंशी बिहार समस्तीपुर से श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर बाबा सतनाम श्री श्री 1008 गौरव नाथ श्री महंत श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर कृष्ण वाणी बड़ोदरा से श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर साध्वी मा जानकी दास और श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर साध्वी मां शालू महाराज तथा राष्ट्रीय धर्म प्रचारक गीतांजलि महापात्रा एवं सूर्या राजपुरोहित उपस्थित रहे।



सांगरी टुडे हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें